Thursday, June 6, 2013

मुक्ति रचने के लिए


क्यों 
किसके लिए 
कब तक 
सवाल इस तरह की रंगत वाले 
सारे के सारे 
छोड़ कर तो आया था 
उसकी देहरी पर 
पर मिल जाते हैं 
अब भी 
मेरी सार्थकता पर प्रश्न चिन्ह बन कर 
उभर आते सवाल 
 
और फिर 
उन सबको 
स्मरण करवाता 
उनका सही स्थान 
 
वह मूल 
जहां से सुलभ है 
उनका अभीष्ठ 
 
इस तरह 
पग पग 
मुक्ति रचने के लिए भी 
करना तो होता है 
स्मरण तुम्हारा 
ओ अविनाशी 

तो क्या 
सत्यनिष्ठ जीवन का अर्थ बस 
सजग, सतत स्मरण है तुम्हारा 
जिसमें से झरती है 
गतिमान मुक्ति की सुन्दर धारा 
 
 
 
अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
६ जून २ ० १ ३ 
गुरूवार 

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

एक केन्द्र, चहुँ ओर चले हम।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...