Monday, December 11, 2017

कविता





















कविता
न नारा
न विज्ञापन
कविता
सत्य खोजता
मेरा मन

कविता
न दर्शन
न प्रदर्शन
कविता
अनंत से
खेलता बचपन

कविता
चुपचाप चलता
मधुर जीवन
कविता
मेरे भीतर
मेरा आगमन

कविता
मौन मुखरित
ममत्व प्रसव 
शिखर पर
सुरभित
नव नव उत्सव
-अशोक व्यास
दिसम्बर ११, २०१७
न्यूयार्क, अमेरिका

पाँच शेर - सवा शेर की तलाश में

एक मैं निश्चल  मुझे अब भी तुम्हारी  याद आये है मुसलसल नहीं सूखा मेरे दाता,  मेरी आँखों का ये जल नहीं समझा जगत क...