Friday, January 20, 2012

उससे सम्बंधित होने के कारण

दिन के शुरू होने के साथ
मुझे अपनी गोद में
ले लेते हैं उसके हाथ

समय की पालकी पर
बिठा कर
वो मुझे
दिन भर घुमाता है
कभी खिलाता है
कभी खेल खेल में
कर्म का संतोष दिलाता है

कभी थपकियाँ देकर
बीच बाज़ार में
मुझे सुलाता है
मैं देखता हूँ
मेरी कुछ मांगे
वो पूरी करता जाता है
पर कई बार
मुस्कुरा कर
मेरे कहे को
टाल भी जाता है
मुझे सुरक्षा, शांति, संतोष
सब कुछ
उससे सम्बंधित होने के कारण 
मिल जाता है
पर कभी कभी सोचता हूँ
उसे मुझसे क्या
मिल पाता है?

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२० जन 2012

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

समर्पण में असीम शान्ति है।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...