Thursday, January 20, 2011

तुम्हारे भेजे शब्द उपहार



जैसे आसमान से 
उतरा हो
फूलों का महकता गुलदस्ता,
जैसे आत्म-सखा रूप में 
साथ मिल कर
खिलखिलाया हो रस्ता,
ऐसे ही 
जब जब देखता हूँ 
तुम्हारे भेजे शब्द उपहार 
मेरे समूचे
अस्त्तित्व से फूटता है
रसमय, निश्छल प्यार 

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
गुरुवार, २० जनवरी २०११





3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

शब्द वाहक हैं उस संदेश के।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर भाव

हरकीरत ' हीर' said...

जैसे आसमान से
उतरा हो
फूलों का महकता गुलदस्ता,
जैसे आत्म-सखा रूप में
साथ मिल कर
खिलखिलाया हो रस्ता,
ऐसे ही
जब जब देखता हूँ
तुम्हारे भेजे शब्द उपहार
मेरे समूचे
अस्त्तित्व से फूटता है
रसमय, निश्छल प्यार


शब्द कुछ देर रोक लेते हैं ......!!

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...