Sunday, September 5, 2010

तृप्ति का एक नया गीत

बस इतना ही होना था
धूप उतरने के बाद
धीरे धीरे
फिर एक बार
फैलती छाया का सिमटना
सिमट कर
लुप्त हो जाना
और
एक क्षण अचानक
दिन के खो जाने
के बाद
काली चादर का फैलना
और
उस अँधेरे में
आश्वस्ति और विश्रांति का उपहार लेकर
मेरे ह्रदय में
तुमने जाग्रत रखी
वह भोर
जिसको जगाता है
शाश्वत सूरज

फिर एक बार
तुम्हारे नाम
अपना प्रेम पत्र लिखते हुए
यह जो
आभार के साथ
छलक आया है
पवन जल आँखों से
इसी से धोकर
तुम्हारे चरण
धन्य हुआ
तृप्ति का एक नया गीत
गुनगुना रहा तन्मयता से

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
५ सितम्बर २०१०

2 comments:

राणा प्रताप सिंह (Rana Pratap Singh) said...

बहुत सुन्दर| सुन्दर कविता|
ब्रह्माण्ड

प्रवीण पाण्डेय said...

मन लिख देना तृप्ति का गीत ही हुआ।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...