Monday, September 6, 2010

अपने होने का उत्सव

 
 दो कवितायेँ 
 
खाली मंच
खाली सभागार
मौन की लय पर
सहसा
थिरकता मन
अपने एकांत के माधुर्य संग
करने लगा 
झूम झूम कर नृत्य

उल्लास उमड़ा
स्वर लहरी समर्पण की
गहराई धीरे धीरे

एक से अनेक
हो गए किस क्षण
कब भरा सभागार
कब 
छुपा छुपा होकर प्रकट
मनाने लगा अपने होने का उत्सव 
पता ही ना चला


मैं संक्रमण काल में
रहता हूँ हमेशा
या
काल वहीं है
आता-जाता मैं हूँ
अपने सपनो, अपने सन्दर्भों के साथ
रचता हूँ
नए नए सम्बन्ध
स्थिति से
मनःस्थिति से
और
नूतनता के साथ
कभी इठलाता
कभी घबराता
जब किसी व्यूह में पकड़ा जाता
समय पर सब दोष लगा कर
काल की देहरी पर
मुक्ति द्वार ढूंढता
एक ऐसे अनाम स्थल तक आता
जहां
मैं और तुम का भेद मिट जाता
फिर से स्वीकार्य हो जाती
मेरी विविधता की यह अनवरत गाथा 

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
६ सितम्बर २०१०

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत सुन्दर पहली कविता।

वन्दना said...

बेह्द गहन रचनायें।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...