Friday, May 14, 2010

नयेपन का स्वागत


अपनी बात कहने के
लिए
विरोध बाहर से ही नहीं
भीतर से भी होता है
सबसे बड़ा विरोधी है
आलस्य 
जो
अपनी बात को 
देखने के लिए आवश्यक
धैर्य और निरंतरता की आपूर्ति
किये बिना
परोस देता है
किसी भी सतही बात को
हमारी बात बना कर
अक्सर ये होता है
हम अपने
प्रमाद के जंगल में
ऐसी पगडंडियों पर पहुँच जाते हैं
जो
उसी घेरे में घुमाती रहती हैं हमें
जहाँ से बाहर निकलने के लिए
लगा कर सारी उर्जा
शुरू करते हैं
अपनी यात्रा हम
नए दिन के साथ
नयेपन का स्वागत करने के लिए
स्पष्टता चाहिए,

स्पष्टता इतनी सी
की हम
आडम्बर की परतों के पीछे 
तक जाएँ
और अपने वास्तविक चेहरे को
देखे बिना
चैन ना पायें


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
५ बज कर ५७ मिनट
शुक्रवार, १४ मई, २०१०

1 comment:

'उदय' said...

....प्रसंशनीय !!!

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...