Saturday, June 21, 2014

परिणय बंधन


आपसी  स्वीकरण का 
सामाजिक उत्सव 
अनंत का अभिनन्दन है 

एक स्फूर्तिदायक पदचाप 
उसकी कृपा की 
जिससे मन, सुमन है 

भाव शुद्धि के साथ 
स्व-मिलन में सहायक, पावन 
परिणय बंधन है
गृहस्थी यानि 
रसमय संगम विविध अनुभवों का  
पग- पग परमात्म मिलन है 


अशोक व्यास, न्यूयार्क, अमेरिका 
२४ मई २०१४ 
(मनन और नताशा के लिए आशीष और शुभ कामनाओं सहित)

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...