Monday, February 17, 2014

जीवन के हर रंग को नमन



जीवन के हर रंग को नमन 
संवित गुरु का नित आराधन 

पल पल पावन करने वाले 
संवित गुरु को पग पग वंदन 

जीवन के हर रंग को नमन 
संवित गुरु का नित आराधन 

उनकी दृष्टि ने दिखलाया 
परम सत्य का यह आमंत्रण 

जीवन के हर रंग को नमन 
संवित गुरु का नित आराधन 

उनके सुमिरन से आलोकित 
हर अनुभव उज्जवल आभूषण 


जीवन के हर रंग को नमन 
संवित गुरु का नित आराधन 

सतत प्रेम की निर्मल गंगा 
संवित गुरु की कृपा विलक्षण 

हर पथ शाश्वत सुमन सुझाते 
आत्म सखा श्री गुरु अभिनन्दन 

जीवन के हर रंग को नमन 
संवित गुरु का नित आराधन 


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 

२ 

गुरु चरणो का नित आभार 
गुरुकृपा से जीवन सार 
गुरु दृष्टि से प्रकट हो रहा 
सांस सांस में प्यार 

गुरु चरणो का नित आभार

मंगल पथ, आलोक प्रसार 
मधुर समन्वय की झंकार 
गुरुवाणी से पल पल सम्बल 
पग पग पर जाग्रत उजियार 


गुरु चरणो का नित आभार 

परम मित्र गुरु! जय जय कार 
सिद्ध गुरु का नित सत्कार 
ब्रह्म निष्ठ संवित गुरु वाणी  
ज्योतिर्मय जग का विस्तार 


गुरु चरणो का नित आभार 

संवित गुरु मेरे शांत स्वरूपा 
उनका हर संकेत अनूठा 
लक्ष्य साध की सतत प्रेरणा 
छुड़ा रही हर बंधन झूठा 

गुरु बिन सब निस्सार 
चुरू चरणो का नित आभार 

अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
१७ फरवरी २०१४ 








4 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

सब स्वीकार करें,
जीवन पूर्ण भरें।

Rakesh Kumar said...

नमन नमन नमन....
सत सत नमन

Rakesh Kumar said...

नमन नमन नमन....
सत सत नमन

Rakesh Kumar said...

नमन नमन नमन....
सत सत नमन

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...