Sunday, July 7, 2013

उसने कहा था


 
 
 उसने कहा था 
जब रास्ते में 
एक टुकड़ा ऐसा आये 
की न चलने का मन हो 
न ठहरने का 
तब मुझे याद करके चलते रहना 

उसने कहा था 
जब मुझे याद करते हुए 
अपने आपको भूल जाओ 
तब ये निश्चित जानो 
मैं मिल जाऊंगा 

उसकी बात साथ रही 
पर अपने आपको भूलना 
कभी हो ना पाया 

अपने को याद रखते हुए 
कई बार 
वजन बढ़ता गया 
और 
अपने नीचे दबने से बचने के लिए 
एक बार जब 
कातरता से उसे पुकारा 
 
तब 
ना जाने कैसे 
हट गया वजन 
संभव हो गया 
अपने से छूटना 
 
और एक निश्छल से क्षण में 
दिखाई दे गया 
सूत्र एक रहस्य का 
 
पूरे रास्ते 
मुझे बाँध कर रखने वाला 
कोइ और नहीं 
मैं खुद था 



अशोक व्यास 
७ जुलाई २० १ ३

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...