Sunday, February 12, 2012

साईं रंग-तरंग




मन चल, रंग जा साईं रंग
चल मन, रम जा साईं संग
साईं शरण लिए, मिल जाए 
  चिर मस्ती का ढंग
मन चल, रंग जा साईं रंग


 सकल जगत में शिरडी साईं
करे कृपा से दंग
देता है, वो प्रेम कोष से 
तज दे, झोली तंग
चल मन, रम जा साईं रंग

शांति प्रदायक, चरण शरण ले
मिट जाए हुडदंग
तृष्णा जाए, तृप्ति लाये 
साईं रंग-तरंग
मन चल, जी ले साईं संग
चल मन, हो ले साईं रंग
पावन पावन, अति पावन है
शिरडी सरस प्रसंग
चल मन, होकर मस्त-मलंग
जीतें काम-क्रोध से जंग


ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं
ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

साईं साईं साईं साईं
भू पर साईं, नभ पर साईं
मुझमें साईं, तुझमें साईं
सकल सृष्टि में, साईं साईं

एक सत्य है, सत्य एक है
जिससे सब कुछ, वो है साईं
जिसमें सब कुछ, वो है साईं
व्यापक साईं, शाश्वत साईं


ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं
ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

पल पल साईं, मंगल साईं
निर्मल साईं, निश्छल साईं
जिसने पाई, उसने गाई 
साईं महिमा, सब पर छाई


साईं साईं साईं साईं
प्रेम से बोलो
शिरडी  साईं
आकर बोलो
शिरडी साईं 
गाकर बोलो
शिरडी साईं


ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं
ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

साईं बाबा, पार लगाना
पावन पथ पर, हमें चलाना
साँसों के अमृत की शोभा
बाबा हमको भी दिखलाना
धीरज देना, श्रद्धा देना
हर फिसलन से, हमें बचाना 
तुम हो दयालु, करूणा सागर
क्षमा शील, हमको अपनाना


जय बाबा, जय शिरडी साईं
तेरी महिमा, जबसे गाई
अंतर्मन में मस्ती छाई
जीवन में श्रद्धा गहराई
दुःख-शोक पीड़ा, छू मंतर 
जब तेरी आँखें मुस्काई

ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं
ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं


अशोक व्यास
फरवरी १२, २०१२ 

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

जय जय साईं..सुन्दर स्तुति..

Rakesh Kumar said...

साईं साईं साईं साईं
भू पर साईं, नभ पर साईं
मुझमें साईं, तुझमें साईं
सकल सृष्टि में, साईं साईं

साईं रंग में रंगें आपको सादर नमन.

देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ.

एक महीने से अधिक से टायफाइड से
ग्रस्त रहा हूँ.अभी कमजोरी बहुत है.

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...