Sunday, February 12, 2012

शिरडी साईं विश्व साईं




शिरडी साईं विश्व साईं
साईं अपने सदा सहाई

स्वयं प्रकाशित, मंगल कारी
साथ चलें, जैसे परछाई

उनकी करूणामय दृष्टि ने
हर एक बाधा पार कराई

गुरु-गोबिंद, दोनों के दरसन
साईं में हो जाते भाई

ध्यान धरे, भव-बंधन छूटे
शिरडी साईं, विश्व साईं

शिरडी साईं- विश्व साईं
साईं अपने सदा सहाई


अशोक व्यास

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...