Thursday, October 6, 2011

उमंगों का नया गीत







और तब
जब हर लहर
ठहर जाती है
स्थिर सागर से
आँख मिला कर
गंभीर हुआ मन
देख नहीं पाता
चिन्ह
किसी तरंग का,

सूनेपन की तोह लेता
मन
जला लेता है
नया दीपक
तुम्हारे नाम का


घाटी में
सहमे हुए फूलों को
नेहला दिया उसने
क्षितिज से उतारे
नए झरने में,

फूंक दिया
हवा में
उमंगों का नया गीत,
बाहें फैला कर
आतुर है
उड़ उड़ कर
अपनी अक्षय मस्ती में
झूम लेने को
तत्काल
 वह


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
               

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...