Thursday, September 22, 2011

तुम मस्ती अनंत वैभव की

(फोटो- अशोक व्यास)

जीवन है बस सार तुम्हारा
पग पग पर आधार तुम्हारा
तुम मस्ती अनंत वैभव की
खेले मुझसे प्यार तुम्हारा

हर पथ पर त्यौहार तुम्हारा
अमृतमय संसार तुम्हारा
देख-देख कर अनुभव अपने 
छू लेता उजियार तुम्हारा



अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२२ सितम्बर २०११    

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...