Saturday, August 6, 2011

एक सागर प्यार का

 
सहेजते सहेजते
उसे
जो यूं कुछ भी नहीं है
 
बीत जाती है उम्र
 
और तब कहीं
झिलमिलाता है
एक 'कुछ'
 
जिसकी सुन्दरता ओझल हो जाती है
उसके पीछे
जो 'कुछ नहीं है'
 
पर सहेजे बिना
यह 'नाकुछ'
बन कर पर्दा
उभर आता है
हमारे और गति के बीच
 
बिना गति
ना सार, ना सौंदर्य, ना संतोष
 
तुम्हारे साथ से
जाग्रत होती है जब गति
जान पाता हूँ
मेरे भीतर भी रहता है
एक सागर प्यार का
 
 
अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
६ अगस्त २०११     

    

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

सागर का अहसास लहरों से ही होता है।

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...