Monday, January 24, 2011

अमृत की प्यास उजागर कर







अमृत की प्यास उजागर कर
अब छोड़ चलें सब खंडित स्वर
मन का वह रूप बने हर क्षण
जिसमें अच्युत हो नित्य मुखर

हम देह प्रान्त के हैं वासी
पर विलसित हममें अविनाशी
एक उसकी ओर रमें निसदिन
जो है शाश्वत करूणा राशी
 
चल प्रेम प्रवाह मगन तन्मय 
संग विश्वमूल के अपनी लय
अब गगन दिव्य आशीष लिए 
वसुधा वत्सल, सागर चिन्मय

है चिर अमृतमय अपना घर
है सृजनशील मंगल निर्झर 
अब आत्म सखा के साथ साथ
साँसों में अक्षत प्रेम डगर

जय श्री कृष्ण

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२४ जनवरी 2011




5 comments:

वन्दना said...

वाह! बेहद सुखद्।

प्रवीण पाण्डेय said...

अन्तर की प्यास तो अमृतमयी ही है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

हम देह प्रान्त के हैं वासी
पर विलसित हममें अविनाशी
एक उसकी ओर रमें निसदिन
जो है शाश्वत करूणा राशी

आपकी रचना ने मन में अमृत स ही घोल दिया है ..बहुत अच्छी रचना

Ashok Vyas said...

Sangeetaji,
man ka amrit kisi shabd se
sakriya hokar apnee upasthiti se
chetna ko avgat karvaye,
ye 'anant' ke kripa hai.
banee rahe

aapka, Praveenjee ka aur vandnajee
ka pratikriya vyakt karne ke liye
bahut dhanywaad
aur mangal kaamnayen

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...