Wednesday, January 12, 2011

मंगल गीत


 
सुबह सुबह
उसकी करूणाकिरण के स्पर्श ने 
भर दिया है मुझे 
आलोकित ऊष्मा से 

 
कृतज्ञता के दीप नयनों में जगाये
प्रसन्नता के मंगल गीत धडकनों में सजाये
मैं 
इस तरह निकल रहा हूँ
उसकी मनोरम डगर पर
कि
जैसे रुकना, चलना, तिरना, उड़ना
एक हो गये हैं सब
 
एकता के इस आनंद को कहने
अधर हिलाने में संकोच है
 
जिससे भी कहूँगा 
वो 'दूसरा' हो जाएगा ना!
 
अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
                                                                                         १२ जनवरी २०११




 

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

मौन चिन्तन हो, बस।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...