Saturday, December 4, 2010

उसकी आहट


 
कुछ नहीं दिख रहा था
सब कुछ दीखते हुए
सारे शोर-गुल के बीच
गुम हो गयी थी
उसकी आह्ट
जाने पहचाने रास्ते पर
खोया खोया
मैं
विश्वास सूत्र के लिए
बोध की अँगुलियों से
टटोल रहा था
मन का आँगन

सहज होकर भी
सहजता से मिलता नहीं वह
कई बार
और इस तरह
सिखा देता है
पूरी तरह एकाग्र होने की कला

पूरी तरह
सजग होकर
धीरे धीरे
अब जब सुन पा रहा हूँ
उसकी आहट
खोली नहीं है
आँख अपनी

मैं भी
उसकी तरह खेल कर
जता रहा हूँ उसे
कि उसके आने का
मुझे कुछ पता नहीं है

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
४ दिसंबर २०१०

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

आहट उसके आने की विधि भी निराली होगी।

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...