Wednesday, November 10, 2010

मन का उन्नत उजियारा

 
वह सब
जो जाना हुआ है 
उसका कोई एक हिस्सा भी
साथ नहीं रहता निरंतर
 
पर संगत करता है
चिंतन यात्रा में
ज्ञान का पचा हुआ एक
स्वर्णिम कण

और
सृष्टि के मर्म को
अपना सम्पूर्ण अर्पित कर
आनंद में थिरकता है जब जाग्रत मन

 शुभ्र भावों का पुंज बना मैं
सबके लिए 
मंगल कामनाएं भेजता हूँ
अपनी हर सांस के साथ

ना जाने कैसे
आश्वस्ति सी
कहीं गहरे पैंठ गयी है
ऋषि कृपा से 
कि
मेरा कल्याण
सबके कल्याण से
अलग ना है
ना हो सकता है कभी

लो
इस सूक्ष्म, संवेदनात्मक दृष्टि से 
दिखलाते हैं तपस्वी दृष्टा
मन का उन्नत उजियारा भी
हवा और धूप की तरह
साझा है सबका

ना कोई बड़ा
नो कोई छोटा
मानवता का गौरव
सबके लिए है
सबमें है
सबसे है

जय हो

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
११ नवम्बर २०१०

 

 

2 comments:

संजय भास्कर said...

वाह क्या बात है ,बिल्कुल सटीक सवाल है

बहुत ख़ूब,

प्रवीण पाण्डेय said...

मन की विशालता प्रदर्शित करती मानवता की उत्कण्ठा।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...