Thursday, November 4, 2010

बात बदलती है रंग

(गणपति जी के स्वरुप सा नाम- वेंकटेश)
 
बात बदलती है रंग अपने नज़र के साथ
अचानक हो जाती है खुशियों की बरसात

जहाँ पहुंचा मैं तेरी याद की चादर लेकर
 मेरे पीछे चली आयी कोई एक चांदनी रात 
 
बहकता है कोई हिरन सा कई सदियों से
साथ है जो, लगे है, छूट गया उसका साथ

पुकार मेरी शिखर तक पहुँच खामोश हुई
 बराबर हो गए मेरे लिए अब दिन और रात
 
उदास शहर में खुशबू का नया झोंका है
गंध माटी की लिए झूम गए मेरे हाथ

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
४ नवम्बर २०१०

 
 


3 comments:

Sunil Kumar said...

जहाँ पहुंचा मैं तेरी याद की चादर लेकर
मेरे पीछे चली आयी कोई एक चांदनी रात
खुबसूरत शेर , दीवाली की शुभकामनायें

Suman said...

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये

प्रवीण पाण्डेय said...

चाँदनी आपकी रातों को महकाती रहे, दीवाली की शुभकामनायें।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...