Thursday, October 14, 2010

paridhi ke paar

लिख लिख कर ये पता चलता है कि स्वतंत्रता की अनुभूति के लिए कोई समय निर्धारित करना ठीक नहीं है
इसलिए कविता लेखन नियम से करने के विचार में एक तरह का विरोधाभास है
पर इस तरह अनुशासित hone का एक swayam ko mil jaata है
अनुशासित hokar apne saath samvaad करने के लिए blog kyoon
diary kyoon नहीं?
इस prashn का uttar ये hee ho sakta है कि
paathak में aur apne में एक  vishisht atmiyta है
aisa maan कर hee yeh blog है

vaise shuru karte समय ये pataa na tha
कि hindi blogs का itna samraddha sansaar aur parivaar internet पर है
kaee baar कविता likhne से milne waale 'atm-santosh' की तरह hee
any bloggers के likhe ko padhne में bhee 'tripti aur ullas' का anubhav hota है
rachnatmakta का prasaad lekhak के saath saath paathak में bheee hota है
mooltaya hamaara srijanatmak 
saathee है vo man, 
jo judne, seekhne aur jaanne के लिए prastut है
aisa man apne anoothe dhang से 
एक vyakti aur doosre vyakti के beech
की 'deevaar' ko mita deta है
aisa man, vistaar की akulahat lekar
chhoo lena chahta है
vo paridhi 
jise ham apne sansaar की seemaa maante hain
aur
shayad इस तरह 
satat vistaaronmukhee man
har 'paridhee के paar' bhee jaa sakta है

astu

Ashok Vyas
nyooyark, amerika
14 aktoobar 2010

1 comment:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...