Monday, October 25, 2010

मौन की शरण

                                                                                (चित्र - ललित शाह )

जहाँ ऐसी अभिव्यक्ति हो
कि संवेदना पर हथोडा सा बजने लगे
वहां जाने से कतराता हूँ,
जहाँ मुखरित होकर ऐसा लगे
कि मैं अपने आपको 
ज्वलनशील बारूद बनाता हूँ,
वहां मौन की शरण लेकर
सुरक्षित, समन्वित धरती पर
लौट आता हूँ
क्या करूँ इसका, कि अपनी इस आदत 
के कारण कभी पलायनवादी
कभी कायर कहलाता हूँ?

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

अपने आप को दीवार में झोंक देना भी बुद्धिमानी नहीं है।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...