Friday, August 27, 2010

समन्वय का सुन्दर स्वर

 
1
देखते-देखते
बहती नदी 
रेत के टीलों को 
कर देती है समतल,
बहाव में
सम का सौंदर्य 
प्रकट हो जाता
पल पल

2
खोने-पाने के झूले 
से उतर कर
एक कोई
मद्धम सुर में
साँसों का मधुर गीत
सुनता- सुनाता है
और
बहते बहते
समन्वय का सुन्दर स्वर 
फ़ैल फ़ैल कर
सृष्टि का सार दिखाता है

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२७ अगस्त २०१०

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...