Sunday, June 6, 2010

असहमति के पहिये से


लो अपनी असहमति के पहिये से
नई गाडी बनाओ
समझ की पटरी पर कुछ ओर
आगे बढ़ जाओ

तुम अब तक अविश्वास करते हो 
क्यूं अपने आप पर
सूरज के सम्मुख निरावरण हो
उज्जवल हो जाओ 

सभा में स्थापित खंडित सत्य से
छटपटाना सहज है
पर इसकी चुभन से, घायल हो 
स्वयं को दुर्बल ना बनाओ

अच्छा तो ये होगा, सत्य के बारे में
अपनी समझ बढाओ
और निर्भयता से प्रखर होकर 
असीम की महिमा गाओ 

अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
सुबह ९ बज कर २६ मिनट
रविवार, ६ जून २०१०

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...