Sunday, April 4, 2010

जो बनना चाहते हो




ऐसा क्यूं है
नए दिन के साथ
होता है मन भी
नयी सलेट सा

नयेपन के साथ
लाता है एक चुनौती भी

लिखो मुझ पर कुछ
बताओ कौन हो तुम
कहो, क्या जोड़ने वाले हो तुम आज
सुनाओ, कौन सी कथा की कड़ी हो तुम

नयापन हँसते हँसते
मुझे पारदर्शी बना कर
नए सिरे से करता है जांच मेरी

कितना दुःख कितना सुख है मुझमे
कितनी निष्ठा है सत्य के प्रति
और
ये भी कि
क्या मेरा होना 'अंतिम सत्य' की पहचान से
अनुनादित है


नयापन नए दिन का
कोमल, शांत आलोकित भाव 
मेरी हथेली में रख कर 
कहता है
अपनी हथेली की रेखाओं से
चुन चुन कर सृजनशीलता
गढ़ो कुछ नया आज
बनो वह 
जो बनना चाहते हो

अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
सुबह ७ बज कर ३५ मिनट
रविवार, अप्रैल ४, 2010

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...