Tuesday, March 23, 2010

देरी का मतलब है हार



कभी कभी जब अधीरता
मचा देती है खलबली 
याद करते हम, सुने हुए शब्द
'दुर्घटना से देर भली'


पर कई बार यूँ होता है
देरी करने वाले बिना खेले हार जाते हैं
समय पर प्रयोग में लाये बिना
  हम अपने सारे अधिकार गंवाते हैं 

राष्ट्र सुरक्षा के लिए भी
तत्परता की जरूरत है भारी 
सैनिक नहीं कह सकता 
ख़त्म हो गयी मेरी पारी

दुश्मन की समय रहते करनी होती है पहचान
वरना वो छीन सकता हमारे धरती-आसमान

धरा रह जाता हमारा शिष्टाचार
वो कर देता छुप कर वार
बचाव करना हो या हमला
देरी का मतलब है हार

देखना है, 'आज नहीं कल' में
हम अपनी उम्र ना बिताएं 
'कल नहीं आज' वाली दृष्टि से
अपनी साँसों को सार्थक बनाएं



अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
मंगलवार, मार्च २३, २०१०
सुबह 6 बज कर 20 मिनट

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...