Saturday, March 13, 2010

एक होने का सौंदर्य



कभी तो स्वर फूटते हैं
किसी शिखर से
और कभी अभिव्यक्ति में
छलकती है 
कोशिश चढ़ाई की

आवाज़ हांफने की
छुपाते नहीं शब्द
साँसों के आने जाने की गति में
सुनता है
किसी का हारते हारते जीतने का हौसला

कोशिश एक स्वर्णिम शब्द है
कविता के साथ बैठ कर
इस शब्द को चमकाते चमकाते
नया हो लेता हूँ मैं

कविता हर दिन जन्म देती है मुझे 
नव शिशु की तरह
नए सिरे से समझते हुए दुनिया को
पा लेता हूँ
एक अनछुआ उजाला 
जिसे अनुभवों की परतों के पीछे
छुपा कर भूल जाता हूँ अक्सर

बात वही है
कोमलता की, 
स्नेह, आत्मीयता
श्रद्धा, विश्वास की
 २

इस मोड़ से अक्सर 
लौट आता हूँ
हर बार
पर अबकी बार
लौटना नहीं
ठहरना है

ठहर कर दिखाने हैं
कविता ko
वो सारे घाव 
जो हम एक-दूसरे को दे रहे हैं
बढा कर अविश्वास, संशय
खेलते हुए
बारूदी खेल
कर रहे हैं
लहुलुहान किसी को यहाँ
किसी को वहां

हम कब सुधरेंगे
क्या हम मिल जुल कर 
देख पायेंगे कभी
एक होने का सौंदर्य?

क्यूं हम अपने अपने झंडो पर
अनंत लिख कर
एक संकीर्ण घेरा बना लेते हैं
अपने आस पास

कविता!
मुझे लगता है
तुम्हारे पास
इन युगों युगों से जागते 
सुलगते सवालों का उत्तर नहीं है

या शायद 
इस सतत समन्वित सौंदर्य के लिए
काव्यमय दृष्टि से ही 
अपनाना होता जीवन को

अब देख रहा हूँ
बंदूकों को सीने से लगा कर
गोलियों की बौछार कर
इतिहास लिखने के तैय्यारी में जुटे
वो सब लोग
वो भी तो लेते हैं साँसे
उन्होंने भी तो जाना होगा
कभी
माँ की गोद का सौंदर्य
पर वात्सल्य छोड़
विध्वंस का सूत्र कैसे बन गए वो सब


अब जब
सारा विश्व एक युद्ध का मैदान सा
बनता जा रहा है
मरने मारने के इस सिलसिले को
पूर्ण विराम लगाना
क्या किसी के बस में नहीं?

कविता के पास बैठ कर
खुलता है जो भाव जगत
यहाँ से
नयी प्रार्थना शांति की
और समन्वय सिखाती समझ की
भेज रहा हूँ
सकल व्योम में
इसके साथ मेरी पीड़ा, मेरा दर्द भी है

इतना सुन्दर जीवन है
इतना वैभव है हर मनुज के अन्दर
इतना अनुपम उपहार दिया है सृष्टा ने
हम इसे यूँ ही गँवा रहे हैं



अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
सुबह ७ बज कर ३४ मिनट 
शनिवार, 
13 मार्च 2010

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...