Saturday, March 6, 2010

129 - जीना तुम्हारी 'हाँ' और 'ना' के बीच है

संवित सधानयन, आबू पर्वत                                         चित्र-अभय हर्ष



१ 
अब तो स्पष्ट हो गया ना
'garbage in garage out'
यह बात सिर्फ computer के लिए ही नहीं है
लागू होती है यह
तुम पर भी
जो भीतर जाएगा
किसी ना किसी रूप में
बाहर आएगा

बात सिर्फ तन की नहीं
मन की भी है
मन के रंगों से बनता है जीवन
कैसे रंग उतर रहे हैं मन पर
इसका नियंत्रण यदि नहीं कर रहे तुम
तो समझ लो
जीवन अपना तुम नहीं जी रहे
कोई और जी रहा है


क्यूं ऐसा है
कि हम अपना जीवन जीने के लिए
तैयार ही नहीं हैं

वो सब जो पहनाया ओढाया गया
उसी को अपना कर
खेलते हैं, नाचते हैं, गाते हैं
कभी हँसते हैं
कभी रो लेते हैं
और कभी कभी अपनी विवशता का दोष
किसी और को  देते हैं


अब ये बात भी interesting है
कि जीना कोई और नहीं सिखाएगा
जीना तो अपने भीतर से ही आएगा

पर भीतर खुद अपने
वही देख पायेगा 
जो मन को देख देख
बाहर जाती उर्जा को
थोडा बचाएगा
धैर्य से मन के रंगों को
संयोजित करने की कला
अपने लिए आप पनपायेगा


जीना 
तुम्हारी 'हाँ' और 'ना' के बीच है
यदि जीवन को 'हाँ' कहोगे तो जियोगे
और किसी क्षण जब
मृत्यु छल करते हुए
खुद को 'जीवन' बताते हुए आयेगी
और गलती से भी 'हाँ' कह जाओगे
तो मारे जाओगे


सुनो
जीने के लिए
'जीवन' की पहचान जरूरी है
तब ही तो 
सजग रह कर 'मन के द्वार'
 मृत्यु को रोक सकोगे उस पार 
अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
मार्च ६, २०१० शनिवार सुबह ७ बज कर ५१ मिनट

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...