Wednesday, June 8, 2016

अपरिवर्तनीय सत्य


हम सबके पास 
अलग अलग आकार 
अलग अलग रंग का सत्य है 

हम चलते हैं 
अपना अपना सत्य लिए 
तब भी जब 
समन्वय को चीर कर 
खंज़र बन सत्य 
लहूलुहान करता है 
हमें 

हम 
अपने बहते लहू का बदला लेने 
बाध्य होते 
चोट पहुंचाने 
दूसरों को 


अपरिवर्तनीय सत्य का परिचय 
छिटका कर 
धुएं में घर बना कर 
डरे डरे 
अब कैसे 
समग्र सत्य के समीप जाएँ 
अपनी क्षुद्रता को कहाँ छुपाएँ 

अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
८ जून २०१६ 

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...