Sunday, June 14, 2015

चाहे वैसा न सही



उसके मुस्कुराते साये में थी शीतलता
 वो जैसे एक चलता - फिरता पीपल था
 आज भी बना तो है साथ उसका
 चाहे वैसा न सही, जैसा कल था 

२ 

वो सक्रिय रहा करता था निरंतर 
नित्य मुखरित, करूणा का स्वर 
कहाँ से पाता था वो स्नेह इतना 
जिसे लुटाया करता था सब पर 


- अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...