Wednesday, January 7, 2015

आज तो खूनी खबर से लाल है अखबार



 अब भी यकीन है मुझे 
 कहीं से बहेगी 
ऐसी गंगा 
जो सब तक 
शांति का सन्देश पहुंचाएगी 

मुझे अब भी लगता है 
महसूस पाएंगे हम 
एक दूसरे के दर्द को 

बारूदी गंध भरी है हवा में 
पर मुझे लगता है 
चमन में 
फिर खिलेंगे पुष्प 
फिर से आएगी 
वो महक 
जिसमें मैं अपने 
मनुष्य होने की गरिमा सूंघ पाऊंगा 
तुम्हारे साथ 

२ 

मुझसे छूटता नहीं 
इस आशा का दामन 
जो अब भी देख रही है 
समन्वय का सपना 
जिसके साथ 
अपनेपन के किस्से 
दिन-रात एक करने के साथ साथ 
हमें भी एक कर देते हैं 

३ 

तमाम विसंगतियों के बावजूद 
मैं अब तक बचाये हूँ 
सबसे एकमेक होने का सपना 
जिसके साथ 
सहेजी हुई है 
मेरे पुरखों की 
बरसों की तपस्या 

मैं उस परंपरा की पैदावार हूँ 
जो बिच्छू को बचाने के लिए 
डंक सह लेने से नहीं कतराते थे 

मैं उन सबकी शाश्वत आँखों से 
देख रहा हूँ 
काल को आच्छादित करते कुहासे से पर 
एक सौम्य, निर्मल, स्निग्ध सुबह 
धरी है 
हमारे लिए 
इसी धरा पर 

जहाँ 
इन दिनों सांस लेते हुए भी 
अपने सुरक्षित होने पर यकीन करना भी मुश्किल है 

फिर भी 
ना जाने क्यूँ 
मुझे यकीन है 
भगीरथ के बुलाने पर 
आखिर कहीं से बहेगी 
ऐसी गंगा 
जो सब तक 
शांति और समन्वय का रसमय स्पर्श पहुंचाएगी 


आज तो खूनी खबर से लाल है अखबार 
शायद कल हिंसा को धो देने वाली 
इस नदी के उत्तर आने की 
खबर आएगी 


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
७ जनवरी २०१५ 

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...