Saturday, December 6, 2014

छम छम उल्लास


 यह दिन सुन्दर 
आलोक लिखे निश्छल 
पल पल 
पावन 
आनंद सरल,

फिर से 
गढ़ूं 
स्वयं को ,
उमड़े 
छम छम उल्लास 
तरल ,

अनावश्यक 
हटा दूँ वह सब 
अनंत संग नित्यसेतु को 
जो जो 
करता ओझल 


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...