Saturday, December 6, 2014

चलो छोड़ दी पतवार


चलो छोड़ दी पतवार 
मैं तो गया फिर हार 
अर्पित सर्वस्व तुम्हारे द्वार 
तुम ही करवाओ पार 
२ 
आर्थिक प्रश्न माथे पर सवार 
नहीं देखने देते अपना विस्तार 
क्षुद्रता का बंदी हुआ मन 
कैसे जाए कसमसाहट के पार 


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 

२ 

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...