Sunday, May 25, 2014

नए नेतृत्व की सौगात


आज 
एक नए युग की शुरुआत 
भारत के लिए 
नए नेतृत्व की सौगात 

सृजनात्मक चिंतन 
स्फूर्तियुक्त मन 
संभावनाएं नूतन 
सूक्ष्म अपनापन 

आज 
एक नई दृष्टि का अवतरण 
पुनर्व्यस्थित हो रहे 
बहुत सारे समीकरण 

शुभ हो, मंगल हो 
सब समस्याओं का हल हो 
सुरक्षित, सशक्त भारत का 
भविष्य उज्जवल हो 

अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
२५ मई २०१ यहां 
(२६ मई २०१४ भारत में )

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...