Saturday, October 12, 2013

मुक्ति के नए चरण




यह 
जो मुक्ति के नए चरण हैं
इतने शांत, इतने शुद्ध, सौम्य

यहाँ
न कोइ पुराना स्वर
न बीते दिनों के पदचाप

सब कुछ
असीम उजियारे में धुला हुआ

मौन में घुली हुई
तन्मयता की चांदनी

अब जब चल दिया हूँ
युधिष्ठिर की तरह
पिघल कर मिट जाने तो प्रस्तुत हूँ
इस पथ पर
जहां
मिट जाना
अमिट हो जाना है


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
अक्टूबर ११, २०१३


1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

मिट जाना कोई खेद नहीं है, उस जग में।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...