Tuesday, December 27, 2011

परम शांत आकाश में

 
तो फिर से
मुस्कुरा कर
देखा उसने
अपने चारो ओर
एक पावन परिधि को

एक शुभ्र घेरा
जैसे
माँ पार्वती ने शिव-सम्मती से
बना दिया हो
उसके चारों ओर 
गणपति स्वरुप मंगल-चक्र,
 
और फिर
मुस्कुरा कर
 ध्यानस्थ वह 
हो गया तन्मय
गुरूमय मौन से निखरे
परम शांत आकाश में



अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२७ दिसंबर २०११  
 
  

2 comments:

मनीष सिंह निराला said...

बहुत सुन्दर रचना !
मेरी नई रचना पे आपका स्वागत है !

अनुपमा त्रिपाठी... said...

sunder rachna ..

पाँच शेर - सवा शेर की तलाश में

एक मैं निश्चल  मुझे अब भी तुम्हारी  याद आये है मुसलसल नहीं सूखा मेरे दाता,  मेरी आँखों का ये जल नहीं समझा जगत क...