Sunday, November 13, 2011

आनंद का ये स्वाद कहाँ से आता है


 
आनंद का ये स्वाद कहाँ से आता है
अनुभूति में उतरे किसकी गाथा है
असर बाद में होता उसकी बातों का
अर्थ खोल कर शब्द कहीं उड़ जाता है
 
 
सहज प्रेम की नदिया कौन बहाता है
करूणा से  ये कौन मुझे छू जाता है
मंगल गान गुंजरित होता साँसों में
व्योम तनु जब अंतस में मुस्काता है
 
 
ये भाव नाम के पार मुझे ले जाता है
ह्रदय मधुर ठंडक से भर भर जाता है
नाम रूप से परे भी सत्ता है उसकी
रचा-बसा जो मुझमें, मुझे रचाता है


चलो, चलो, वो स्वयं बुलाने आता है
मैय्या बन कर निद्रा दूर भगाता है
कैसे समझूं क्या मंशा आखिर उसकी
जगा रहा है वही जो मुझे सुलाता है
 
अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
रविवार, १३ नवम्बर २०११   




4 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

न जाने किसका अर्पण हम।

Rakesh Kumar said...

चलो, चलो, वो स्वयं बुलाने आता है
मैय्या बन कर निद्रा दूर भगाता है
कैसे समझूं क्या मंशा आखिर उसकी
जगा रहा है वही जो मुझे सुलाता है

सद् गुरदेव जी को सादर नमन.

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
अवगत कराइयेगा ।

http://tetalaa.blogspot.com/

अनुपमा पाठक said...

आनंद का ये स्वाद कहाँ से आता है
ये अनुभूति का विषय है... कौन कह पायेगा भला!
सुन्दर रचना!

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...