Thursday, June 30, 2011

अव्यक्त आनंद का सूत्र





यह झकाझक उजाला
प्रसन्नता की किलकारियां 
खिलकाती किरणें
फ़ैल कर खो बैठी हैं
अपना मूल स्वरुप

पर मिलने-जुलने में
खोकर
अपना सर्वस्व बाँट लेने की उदारता में
याद ही नहीं इन्हें
की क्या खोया है
शायद यह बोध भी न हो
की क्या पाया है

खोने और पाने से परे
अव्यक्त आनंद का सूत्र बन जाना
किरणों को किसने सिखाया है?


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
       गुरुवार, ३० जून २०११          
     

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

लहरों और किरणों की आनन्द अभिव्यक्ति, सुन्दर निरूपण।

कुश्वंश said...

अच्छे शब्दों का प्रयोग बधाई

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...