Tuesday, December 21, 2010

सृजन केंद्र की आभा में तन्मय


मन 
खाली आकाश सा
लील गया है
सारे बिम्ब

शांत विस्तार में
विलीन हुए
संकल्प 

इस विराम में अनुपस्थित है
अभिव्यक्ति की चाहत 
 इस स्थिरता में 
गुदगुदाती सी अनाम लहरें

 सृजन केंद्र की आभा में तन्मय 
मौन में 
दुर्लभ आश्वस्ति का रस संचार करते 
तुम्हारे बोध की अनुभूति करने
अलग बना रहता हूँ
तुमसे
और मेरी पूजा के द्वारा
तुम्हे कुछ मिले या ना मिले
मुझे मिलता रहता है
'तुम्हारे मिल' जाने का सुन्दरतम अनुभव


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२१ दिसंबर २०१०
मंगलवार










No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...