Friday, October 29, 2010

बदलाव

                                                         (चित्र- ललित शाह)

 
बदलाव
एक वह जो होता है
एक वह जो किया जाता है
बदलाव
एक वह जो 'करने' और 'होने' वाले बदलाव के सम्बन्ध को
बदल बदल कर
झांकता है
हमारे जीवन से,
कभी उत्साह के शिखर तक ले जाता
कभी उदासीनता की गुफा तक पहुंचाता

बदलाव को जिसके आधार से
मिलता है रूप अपना
उस आधार को
पकड़ने के प्रयास में
बार बार
बदल जाता हूँ मैं
और 
इस प्रक्रिया में
कभी तुम्हे बहुत समीप पाता हूँ
पर कभी कभी
तुम्हें पहचान ही नहीं पाता हूँ

अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

बदलाव अन्ततः वही होता है जो किया जाता है।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...