Monday, October 18, 2010

प्रमाण सत्य का

 
 
खोजता रहा 
प्रमाण सत्य का
हर दिशा
हर अनुभव में वह

और फिर बरसों बाद
संकेत सत्य का
मिला इतना सा
' खोजो मत
स्वयं ही 
बन जाओ प्रमाण सत्य का
छोड़ कर
अपना सीमित परिचय'


अशोक व्यास
 

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

स्वयं प्रमाण बनने से सत्य गहरा जाता है।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...