Sunday, October 10, 2010

धीरज के गाँव का पता

 
उसने फिर पूछा
पहाड़ से
धीरज कहाँ से लाऊँ
मंद मंद
मुस्कुरा कर
बताने को था
मौन तोड़ कर पर्वत कि
धीरज का रास्ता मिलेगा
साँसों के मध्य स्थित विराम में
धडकनों की लय में विराजित आराम में
 
पर उसी क्षण 
अधीरता में अपनी
चल पडा वह
पर्वत से निराश होकर  
किसी ओर से
धीरज के गाँव का पता पूछने


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
१० अक्टूबर 2010

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...