Thursday, September 30, 2010

घर की सी अनुभूति

 
तो फिर
यूँ हुआ
धीरे धीरे 
फिसलने और चलने का अंतर
पोंछ दिया किसी ने
ब्लैक बोर्ड से,

सारे छात्र
 जीवन का जो अर्थ लेकर
आये
आसमान के नीचे
उसमें
बदल गया था 
मूल्यों का अर्थ


तो फिर
धीरे धीरे 
यूँ हुआ कि
सूरज की किरणों के श्रृंगार वाले संस्कार
सजे रह गए 
पारदर्शी शीशे की अलमारियों में

धूप का चश्मा लगा कर
अँधेरे कमरों की
थिरकती रोशनी में
नृत्य करने निकल पड़े सब 
 
तो फिर 
धीरे धीरे
यूँ हुआ है कि 
सन्दर्भों के लहराते आईने में
हिलते-डुलते 
सही-गलत के बोध को लेकर
हम
अब भी शाश्वत का संगीत लेकर
सूचना और तकनीक की आंधी में
 ढूंढ रहे हैं
अपने जैसे लोगों को
 
इस मेले में
साझी सोच वाले समूह के साथ
यह जो एक 
घर की सी अनुभूति है

इसके विस्तार में
क्या विस्तृत होते जाते हैं अनायास ही
हम भी


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
गुरुवार, ३० सितम्बर २०१०







5 comments:

Apanatva said...

mere man kee baat kah dee aaj aapne........ayee peedee naya unake jeevan muly........Outsourcing ne rahee sahee kasar bhee pooree kardee . ab ek shaher me kisee ka din to kisee kee raat hotee hai...........
sunder abhivykti.

प्रवीण पाण्डेय said...

इस मायाजाल में स्वयं को ढूढ़ने से हम सब खो ही जायेंगे।

Apanatva said...

Nayee peedee padiyega N choot gaya........
n ka chootna shubh hee hai jeeven me :)

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ....

Ashok Vyas said...

ab yahan koee aayega nahin, par Praveenjee aur Apnatva jee ka vishesh dhanywaad, abhaar, sneh aur mangal kaamnayen.
Jin dino likh rahaa tha, niyam se samay nikaal kar ek kavita likh bhar deta tha
pratikriyaon ko bhee dhang se padhaa nahin
itna achchha lagaa hai 'Apnantva' jee kee sahaj pratikriyayen aur Praveenji kee 'bauddhik roop se sanskarit kartee pratikriyayen padh kar kee apnee kritagyta vyakt karne ka avsar swayam ko de hee diya
Aapka padhne aur juden ke liye abhaar
ye aur baat kee mujhe pataa itne samay baad chal rahaa hai
jab mein in rachnaon ko punah padhte huye anandit ho rahaa hoon
DHER SAARA ABHAAR APANATVJEE
BAHUT DHANYAWAAD PRAVEENJEE

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...