Sunday, June 20, 2010

गणित के परिधि

सम्बन्ध

हर सम्बन्ध में
जाने-अनजाने चलता है 
एक लेन-देन,
एक दिन जब 
 बैठ जाते हैं 
हिसाब लगाने,
हर किसी को लगता है
घाटे में रहा है वो ही,
लाभ में शायद
बस वो रहता है
जो हिसाब नहीं लगाता
क्योंकि
प्यार अनमोल है
गणित के परिधि में नहीं आता


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
सुबह ६ बज कर २४ मिनट
रविवार, जून २०,२०१०

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...