Wednesday, June 9, 2010

कृतज्ञता की एक कली


विचार
लुप्त सरस्वती नदी से
बुदबुदों की तरह
फूट फूट कर
कभी कभी
बहते हैं
शाश्वत पहचान की नदी लेकर

यह 
आनंद का भीगापन 
यह
तन्मयता की चांदनी
यह
अनिर्वचनीय समन्वय
और
एक अटूट आश्वस्ति
बोध का एक आलोकित बिंदु
जैसे 
फूट रही हों
मुझसे
रश्मियाँ प्रेम की

यह सब
मंगलकारी, अच्छा अच्छा
भला सा
मैंने नहीं किया
सचमुच

पर हुआ है मुझमें
यह
स्निग्ध स्वीकरण
जिससे है
जिसका है
उससे कैसे करूं अनुरोध
कि देखे अपना प्रतिबिम्ब
इन शब्दों में

बस खड़ा हूँ

कृतज्ञता की एक कली लेकर

उस सर्वयापी संवेदना के नाम


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
(२००७)

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...