Tuesday, June 1, 2010

मधुर मौन झंकार जगा दे


(उत्सव संगम का, मधुर प्रवाह के उद्गम का -                    चित्र- अशोक व्यास)


 
जीवन का आधार बता दे
नित्य प्यार का सार बता दे
जिसको विदा नहीं कहना है
मुझको वो संसार बता दे

मधुर मौन झंकार जगा दे
तन्मयता के तार दिखा दे
प्रेम, शांति का अक्षय वैभव
आनंद रस इस बार दिला दे


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
मंगलवार, १ जून २०१० 
सुबह ६ बज कर ५५ मिनट

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...