Saturday, December 12, 2009

किसकी लिखी है ये कविता


कविता इस क्षण के साथ मेरे सम्बन्ध का पुल है

यह क्षण जो मैं हूँ

और यदि यह क्षण मैं हूँ
इससे पहले वाला क्षण भी मैं था
आने वाला क्षण भी मैं ही होने वाला हूँ
तो
क्या मैं ही समय हूँ

और यदि मैं समय होकर भी समय से परे की चेतना के साथ जुड़ सकता हूँ
तो मैं सिर्फ़ समय ही तो नहीं
कुछ और भी हूँ
क्या हूँ मैं?
सुबह सुबह
बैठ कर कविता की गोद में
जिद करता हूँ
दिखलाओ मेरा चेहरा
कविता अनिश्चय को बचाए रखते हुए
निश्चित करती है
मेरे लिए
एक भाव रूपी आकार
नए सिरे से दिखला देती है
एक नदी, एक सागर, एक लहर
जिसका मर्म है प्यार

तो क्या
मैं और कुछ नहीं प्यार के सिवा
तो क्या मैं और कुछ नहीं शान्ति के सिवा

कविता मुस्कुराती है
चुपचाप ये जताती है
की मैं
अपने आप को हर क्षण जन्म देता हूँ
और हर क्षण अपना संहार भी करता हूँ

इस तरह मैं वो हूँ जो जन्म मरण से परे है

कविता मुझमें विद्यमान
असीम की झलक दिखाती है
और फिर मुझे योग निद्रा में सुलाती है
सबसे एक करवाती है

क्या है जगत
यदि कविता ही मेरी सच्ची साथी है?



सहसा कोंधता है ये ख्याल
क्या सारा जगत भी एक कविता है
यदि हाँ
तो किसकी लिखी है ये कविता
और
क्यों अनंत रूपों मैं नित्य नयी हो रही है ये
क्या कोई पढ़ भी सकता है इसे
क्या लिखने वाले ने कभी न चाहा होगा
की कोई इसे पढ़े, इसे समझे

या वो स्वयं ही है लिखने वाला
और स्वयं ही है पढने वाला

ये कविता वो ही पढ़-समझ पाये
जो लिखने वाले के साथ
एक मेक हो जाए


अशोक व्यास
न्युयोर्क, अमेरिका
सुबह ५ बज कर ४० मिनट
शनिवार, दिसम्बर १२, ०९

No comments:

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...