Saturday, January 24, 2015

कविता क्या है


कविता क्या है 
लिख लिख कर पता लगाता हूँ 
फिर लिखता हूँ 
क्योंकि जाना हुआ भूल जाता हूँ 

कविता 
पता लगाने का पथ है 
की मन कहाँ है 
किस बात में रत है 

कविता 
मन के संसार का ताना-बाना है 
कुछ जानना है 
कुछ बताना है 

और कहने सुनने के क्रम को 
ऐसे अपनाना है  
की अपने साथ 
एक मेक हो जाना है 

तो क्या कविता 
एकत्व की अनुभूति जगाना है 
जो हर काल में रहता है 
उसके संग घुल मिल जाना है 

स्वयं से अलग होकर 
स्वयं को देखते जाना है 
सत्य है या श्रृंगार सत्य का 
कविता जीवन को थपथपाना है 


अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
२४ जनवरी २०१५ 

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...