Saturday, March 29, 2014

कैसे करूणामय हैं वो गुरुवर



ध्यान जिस तरफ रहता है निरंतर 
उसके स्वरुप में आनंद निर्झर 

वह एक अनादि, अनंत, शाश्वत 
उसकी सन्निधि का भाव है सुन्दर 

उसमें रमने के लिए ही सारा खेल 
उसकी सुमिरन में आनंद का सागर 

हर दिशा में उसकी महिमा का गान 
उसकी छवि से मुक्ति उजागर 

ध्यान उसका,  प्रसाद है जिनका 
कैसे करूणामय हैं वो गुरुवर 
 
अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका 
मार्च २९ २०१४
 
 

No comments:

वहाँ जो मौन है सुंदर

वह जो लिखता लिखाता है कहाँ से हमारे भीतर आता है कभी अपना चेहरा बनाता कभी अपना चेहरा छुपाता है वह जो है शक्ति प्रदाता  ...