Friday, November 11, 2011

अनंत की कविता






आज मैं कविता नहीं लिख रहा हूँ
यूं कविता मैं कभी लिखता नहीं
हर दिन
कविता की संगत में
स्वयं को नए रूप में लिखने का
विनम्र प्रयास करता हूँ



शब्द
कभी
गुफा से निकलते सूरज की तरह
चकाचौंध कर देते हैं मुझे

उनकी आभा में नहाता
मैं
अपनी चुप्पी में
भर लेता हूँ
कविता का वह स्पर्श
जिससे
सुनहरा हो जाता मेरा सारा दिन



आज कविता नहीं
स्वयं को ही लिखना है
शुद्ध रूप से
ऐसे जैसे की
रेतीले टीले पर
कंघी करती हुई
निकल जाए सरसराती हवा

जैसे
पानी को गुदगुदा कर
खिलखिलाए हवा

तरंगों की गति में
छुपे हुए
अज्ञात को
देख लेने
आज फिर
शिखर से
क्षितिज को निहारता

मैं
अनंत की कविता में लीन
शब्द गंगा में घुल कर
निःशेष हो जाने की
प्रसन्नता से
झिलमिला रहा हूँ जब

इस आनंद को आधार देते
तुम
क्या अब भी समझते हो
छुपे हुए हो मुझसे?


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
११ नवम्बर 2011         

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

शब्द जैसे भी व्यक्त होना चाहे।

आनंदित निर्झर

छम छम बरसे प्रेमामृत सा खिला करूण अलोक अपरिमित मौन मधुर झीना झीना सा सरस सूक्ष्म  आनंदित निर्झर तन्मय बेसुध  लीन....  ...